पेट्रोल को रात भर फ्रीज में छोड़ दिया जाए तो क्या उसका बर्फ बन जाएगा?

0
159

प्रो गुप्ता बताते हैं कि किसी भी तरल पदार्थ का बॉयलिंग और फ्रीजिंग प्वाइंट उसमें मौजूद तत्वों पर आधारित होता है. पानी, दूध, खाद्य तेल, क्रूड ऑयल इन सब के फार्मूले अलग-अलग हैं.

गर्मियों का मौसम चल रहा है. कोल्डड्रिंक से लेकर आइसक्रीम की डिमांड इस मौसम में काफी बढ़ जाती है. पेय पदार्थों के लिए हम फ्रीज में बर्फ(Ice) भी खूब जमाते हैं. कई बार फ्रीजर में ज्यादा देर तक को​ल्डड्रिंक छोड़ दी जाए तो वह भी जम जाती है. दूध वाली आइसक्रीम भी फ्रीजर में जमाई जाती है. सामान्य दूध को भी लंबे समय तक फ्रीजर में छोड़ दें तो वह बर्फ की तरह जम जाती है. लेकिन आपके दिमाग में कभी ये आया कि पेट्रोल को भी फ्रीजर में रखा जाए!

पेट्रोल की बर्फ आपने कभी देखी है क्या? क्या आपने कभी सोचा है कि पानी और दूध की तरह अगर पेट्रोल को भी फ्रीजर में रख दिया जाए तो क्या होगा? क्या वह भी बर्फ में बदल जाएगा? पेट्रोल तो सामान्य अवस्था में भी बेहद ठंडा होता है तो क्या उसकी बर्फ जमने में पानी से कम समय लगेगा?

किसी भी तरह पदार्थ को यदि उसके फ्रीजिंग पॉइंट तक न्यूनतम तापमान की अवस्था में ले जाने पर वह जमने लगता है. बिहार के भागलपुर निवासी फिजिक्स के प्रोफेसर सरयुग गुप्ता बताते हैं कि सभी प्रकार के द्रव यानी तरल पदार्थों का फ्रीजिंग पॉइंट सेम नहीं होता, बल्कि अलग-अलग होता है. जैसे कि हर द्रव का एक बॉयलिंग पॉइंट होता है.

बॉयलिंग पॉइंट और फ्रीजिंग पॉइंट

पदार्थ की तीन अवस्थाएं होती हैं, ठोस, द्रव और गैस. कोई भी तरल पदार्थ जिस ​अधिकतम तापमान पर जाकर उबलना शुरू होता है, उसे उसका बॉयलिंग पॉइंट कहते हैं और जिस न्यूनतम तापमान पर जाकर वह जमना शुरू होता है, उसे उस द्रव का फ्रीजिंग प्वाइंट कहते हैं. जब तक​ किसी तरल पदार्थ को उसके अधिकतम या न्यूनतम पॉइंट तक नहीं ले जाया जाएगा वह सामान्य यानी द्रव अवस्था में ही रहेगा.

फ्रीज में पानी बर्फ बन जाता है, लेकिन…

प्रो गुप्ता बताते हैं कि किसी भी तरल पदार्थ का बॉयलिंग और फ्रीजिंग प्वाइंट उसमें मौजूद तत्वों पर आधारित होता है. पानी, दूध, खाद्य तेल, क्रूड ऑयल इन सब के फार्मूले अलग-अलग हैं. इनका बॉयलिंग और फ्रीजिंग प्वाइंट भी अलग-अलग होता है. उन्होंने बताया कि फिजिक्स की क्लास के दौरान कक्षाओं में ऐसे प्रयोग कराए जाते हैं.

यूट्यूब पर भी ऐसी वीडियोज मौजूद हैं. एक वीडियो में प्रयोगकर्ता एक ग्लास में पानी और दूसरे में पेट्रोल भरकर फ्रीजर में 24 घंटे के लिए छोड़ देता है. 24 घंटे बाद पानी बर्फ में बदल चुका होता है, जबकि पेट्रोल बर्फ नहीं बनता. दोनों का तापमान एक समान शून्य डिग्री सेल्सियस रहता है.

क्या होता है पानी का फ्रीजिंग प्वाइंट?

पानी का फार्मूला आप जानते ही होंगे- H2O यानी पानी के एक अणु में हाइड्रोजन के 2 अणु और ऑक्सीजन के एक अणु होते हैं. पानी का फ्रीजिंग पॉइंट होता है जीरो यानी शून्य डिग्री सेल्सियस. यदि तापमान 0 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच जाएं तो पानी बर्फ बनना शुरू हो जाता है और -1 से लेकर -5 डिग्री सेल्सियस में पानी एक ठोस बर्फ में बदल जाता है.

क्या होता है पेट्रोल का फ्रीजिंग प्वाइंट?

पेट्रोल का फार्मूला CnH2n+2 होता है. यह मुख्य रूप से कार्बन और हाइड्रोजन का यौगिक है. इसका फ्रीजिंग पॉइंट पानी की अपेक्षा काफी नीचे होता है. पेट्रोल का फ्रीजिंग प्वाइंट मा​इनस साठ (-60) डिग्री सेल्सियस होता है. यानी पेट्रोल को -60 डिग्री तक ले जाया जाए तो ही उसका बर्फ जमना शुरू होगा. लेकिन किसी कंपनी ने ​ऐसा कोई फ्रीजर बनाया ही नहीं है.

आपके घर में जो फ्रीज मौजूद होते हैं, उनमें फ्रीजर न्यूनतम तापमान 0 से -4 तक ही ले जा सकता है. वहीं आइसक्रीम या कोल्डड्रिंक की दुकानों में जो डीप फ्रीजर होते हैं, उनमें -9 से -18 डिग्री सेल्सियस तक टेंपरेचर की सुविधा रहती है. तो स्पष्ट बात यही है कि पेट्रोल को रात भर या 24 घंटे या कई दिन तक भी फ्रीजर में रख दिया जाए तो उसका बर्फ नहीं जमता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here