Reserve Bank Of India Warns Against Unauthorised Digital Lending Platforms And Mobile Apps

0
101

[ad_1]

मोबाइल ऐप के जरिए फौरन लोन देने की पेशकश करने वाले डिजिटल प्लेटफॉर्म और मोबाइल ऐप से अगर आप ऋण लेने की सोच रहे हैं तो सावधान हो जाए. इसके जरिए ना सिर्फ आपके डॉक्यूमेंट्स के साथ फर्जीवाड़ा किया जा सकता है बल्कि ऊंची ब्याज दर के साथ ये लोन का ऑफर करते हैं. इसके साथ ही, इनके पैसे की रिकवरी का तरीका भी बेहद गलत होता है. ऐसे में  रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बुधवार को ऐसे मोबाइल ऐप और डिजिटल प्लेटफॉर्म से व्यक्तिगत तौर पर या छोटे व्यवसाय के लिए अनाधिकृत ऋण लेने से बचने को कहा है जो तुरत और बिना कागजात के पैसे देने का वादा करते हैं.

आरबीआई ने कहा कि ऐसे प्लेटफॉर्म की ब्याज दरें काफी ऊंची होती है और अतिरिक्त छिपे हुए चार्ज होते हैं. इसके साथ ही, वे मोबाइन फोन धारकों के डेटा का गलत इस्तेमाल भी करते हैं. केन्द्रीय बैंक ने कहा- “आम लोगों को आगाह किया जाता है कि वे इस तरह की बेईमान गतिविधियों और ऑनलाइन/मोबाइल ऐप के माध्यम से कंपनी/फर्म के ऋणों की पेशकश को सत्यापित करें.”

इसमें आगे कहा गया, कंज्यूमर को कभी भी केवासी डॉक्यूमेंट्स किसी अज्ञात व्यक्ति, अनाधिकृत ऐप को नहीं देने चाहिए और ऐसी घटनाओं के बारे में संबंधित कानून प्रवर्तन एजेंसियों को सूचित करना चाहिए.

बैंक, आरबीआई से रजिस्टर्ड गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) और अन्य संस्थाओं जो राज्य सरकार के वैधानिक प्रावधानों के तहत द्वारा विनियमित उनसे ऋण लिया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: बैंक चेक भरते वक्त कभी न करें ये 6 गलतियां, छोटी सी लापरवाही से हो सकता है बड़ा नुकसान 

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here